Thappad se darr lagta hai sahab

थप्पड़ से डर लगता है और प्यार से भी मैँ आम आदमी हूँ साहब मुझे आम के दाम से भी डर लगता है भगवान् को मानता हूँ पर अँधेरे में जाने से घबराता हूँ मैँ आम आदमी हूँ साहब डर के पूजा पाठ करता हूँ भूत क्या बला है में तो इंसान से भी डरता […]

Oh faak I am not anymore obaak. India this year.

There’s a silly poem in Bengali, which goes like this: “Shokale bechana theke uthe Jaalnaar Baaire dekhi ekta kaak… Shokale bechana theke uthe Jaalnaar baire gaacher dale dekhi ekta kaak… Shokale bechana theke uthe Jaalnaar baire gaacher dale dekhi Duto kaak… Oh faak aami to obaak” The meaning of this poem is “this guy wakes […]